How to Trade Commodity Market in India

Post Reply
niveza
Posts: 132
Joined: Wed Feb 22, 2017 3:48 pm

How to Trade Commodity Market in India

Post by niveza » Thu Apr 05, 2018 3:26 pm

The commodity market is a trading portal where the investors can trade in different materials and soft commodities like food grains, oil etc. The commodity market in India allows the traders to buy, sell and trade in different goods. While trading in commodities, the traders need to look into different factors having the direct impact on the demand and supply as well as price movement of the goods. Successful commodity trading is possible only when you know about all those factors and play safe while keeping all the points in the mind.

As far as commodity market in India is concerned, the commodity trading is done through Multi Commodity Exchange (MCX) and National commodity Derivative Exchange (NCDEX). You should also have some knowledge of their functionality to make better investment choices.

Strategy: Once you know about the market, your risk appetite, comfort level and the commodities, you should make some strategies and follow the same. The strategical trading process helps you take just calculated risk and have a control on the loss you can bear.

Read More @ https://bit.ly/2EmacLf

HenryRuini
Posts: 2
Joined: Sat Feb 02, 2019 11:16 pm
Location: Sri Lanka
Contact:

How to Trade Commodity Market in India

Post by HenryRuini » Wed Mar 13, 2019 4:08 pm

Hi,

Does anybody know how to trade in Finnish exchange market? So far I know I got to find a broker first. and then? Any ideas or comments are appreciated. Thanks.

Best,
Sam

Parulsoni
Posts: 45
Joined: Mon Dec 31, 2018 1:38 pm
Contact:

Re: How to Trade Commodity Market in India

Post by Parulsoni » Tue May 28, 2019 5:50 pm

तेल की कीमतें शेयर बाजार को कैसे प्रभावित करती हैं?
https://sharemarkettipsinhindi.blogspot ... -post.html

तेल, दुनिया की सबसे कीमती commodity में से एक है जो इस वर्ष की शुरुआत से अपना मूल्य खो रहा है।
तो, देखते है कि कैसे तेल की कीमतों शेयर बाजारों को प्रभावित करती है? चलो देखते हैं..
मांग का कम होना: माल की मांग में वैश्विक मंदी के कारण, कई प्रमुख कंपनियों की बैलेंस शीट पर गहरा प्रभाव पड़ता है क्योंकि तेल बुनियादी रूप से एक अहम पदार्थ है, क्योंकि यह गैसोलीन जेट ईंधन आदि बनाता है। जैसे ही कीमतें एक निश्चित स्तर से नीचे चली जाती है वह कॉर्पोरेट्स के लिए एक भेस बन जाती है और तेल की कीमतों के कारण कुल मांग में कमी से लाभ मार्जिन को एक नए निम्न स्तर पर पहुंचा देती है। इन कारणों से शेयरों के भाव नीचे चले जाते है।
संभावित बाजार क्रैश
2009 में प्रकाशित एक विश्लेषण में, टॉम थेरमस ने बताया कि दुनिया के इतिहास में होने वाले पूर्ववर्ती 50 वर्षों में हर संभव मंदी तेल की कीमत में बड़े और अस्पष्ट मूल्य परिवर्तन के तुरंत बाद हुई है। इस क्रैश को अतीत में देखा गया है और यह एक और कारण है जिसके कारण बाजार शेयर की कीमतें कम हो जाती है।
पेट्रोलियम उद्द्योग
भारत जैसे तेल आयात करने वाले देशों के लिए तेल की कीमतें गिरना फायदेमंद हो सकता है, लेकिन कच्चे तेल की नाक में गोता लगाने से देश के प्रमुख पेट्रोलियम निगमों में बहुत खलबली मच जाती है और उनका लाभ काफी हद तक भुगतना पड़ता है। दूसरी ओर, जिन देशों की अर्थव्यवस्था का प्रमुख हिस्सा इसके तेल निर्यात से आता है जैसे कि रूस धीमी मांग के कारण एक बड़े संकट से जूझता है।
विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं पर प्रभाव
वेनेजुएला जैसी अर्थव्यवस्थाएं जो तेल निर्यात के कारण देश के राजस्व का 95% के लिए जिम्मेदार हैं, तेल की कीमतें गिरने के कारण पीड़ित हैं। नाइजीरिया, जो कि अफ्रीका का सबसे बड़ा तेल उत्पादक है, लेकिन शोधन की पर्याप्त क्षमता नहीं होने के कारण उन्हे अधिकांश ईंधन आयात करना पड़ता है। कीमतों में गिरावट के साथ-साथ उद्योग देश में हिंसा और तेल रिसाव से भी मार्केट प्रभावित होता है। अज़रबैजान की अर्थव्यवस्था तेल निर्यात पर बहुत अधिक निर्भर है। 2014 में लगभग आधा जीडीपी तेल क्षेत्र से आया था। यह तेल की कीमतों में गिरावट का प्रमुख प्रभाव था जिसने दुनिया की विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं को मारा था।
अनुषंगी घटनाएँ
फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों को कड़ा किए जाने और चीनी अर्थव्यवस्था में आर्थिक मंदी के होने का प्रमुख कारणों तेल की कीमतों है, जिसने शेयर बाजार और अमेरिकी अर्थव्यवस्था में बड़ी गिरावट की है।
तेल की कीमतें पुनरुद्धार कभी भी जल्दी नहीं होती, लेकिन बाजार में शेयर बाजार अपनी स्थिति से इसे ठीक कर सकता है।

Post Reply